Home > आपका शहर > Rajasthan crisis: सियासी घमासान के बीच वसुंधरा राजे की एंट्री, आज भाजपा विधायकों की बैठक।

Rajasthan crisis: सियासी घमासान के बीच वसुंधरा राजे की एंट्री, आज भाजपा विधायकों की बैठक।

Rajasthan Political Crisis Update: सूत्रों की मानें तो राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) जयपुर आ सकती हैं. यहां वे बीजेपी विधायकों से मुलाकात कर सकती हैं.

जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) में चल रहा सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है. सूबे की राजनीतिक हलचल पर बीजेपी पैनी नजर जमाए हुए है. सूत्रों की मानें तो राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) कल जयपुर आ सकती हैं. यहां वे बीजेपी विधायकों से मुलाकात कर सकती हैं. बताया जा रहा है कि सुबह11 बजे होने वाली बीजेपी विधायकों की बैठक में भी वे उपस्थित रहेंगी. जबकि सियासी खींचतान के बीच अब मंत्रिमंडल विस्तार (Cabinet Expansion) की कवायद तेज हो गई है. सचिन पायलट (Sachin Pilot) के डिप्टी सीएम पद से हटने के बाद अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) अपने हिसाब से अपनी टीम तैयार कर सकते हैं. माना जा रहा है कि अब सीएम गहलोत को अपनी टीम चुनने के लिए फ्री हैंड अथॉरिटी होगी. गुर्जर विधायकों को मंत्री बनाकर पायलट इफेक्ट को बैलेंस किया जा सकता है.

‘अगर कोई आता है तो उनका स्वागत है’

राजस्थान घटनाक्रम पर केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh Shekhawat) ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि भाजपाका रुख साफ करने की कोशिश करते हुए उन्होंने कहा कि कोई भी जनाधार वाला आदमी पार्टी में आता है तो अच्छा ही है. शेखावत ने कहा कि आज हमारा कुन्बा इतना बड़ा हो गया है. जाहिर है कि अगर कोई आता है तो स्वागत होगा. आज राजस्थान के सीएम अपनी योजना में सफल हो गए हैं. बॉलीवुड में ट्रैंड है कि अगर इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को लगे की वो फिल्म नहीं चल पाएगी तो कोई प्रोपेगेंडा लगता है. ये ही राजस्थान में हुआ है. जनता के मामलों में सरकार विफल रही है.

सचिन पायलट को एक और झटका

राजस्थान में सियासी हलचल के बीच गहलोत सरकार डिप्टी सीएम रहे सचिन पायलट की जेड श्रेणी की सुरक्षा वापस ले सकती है. डिप्टी सीएम की कुर्सी जाते ही सरकार जेड श्रेणी की सुरक्षा वापस लेने पर गंभीरता से विचार कर रही है. गृह विभाग के सूत्रों के अनुसार राज्य सरकार सचिन पायलट की जेड श्रेणी की सुरक्षा वापस ले सकती है. उच्च स्तर पर मंथन चल रहा है. हालांकि अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में गठित कमेटी ही करेगी.