Home > आपका शहर > Covid-19 , लौकड़ाउन के दौरान क्या होगी आपकी दिनचर्या, आयुष मंत्रालय की गाइडलाइन।

Covid-19 , लौकड़ाउन के दौरान क्या होगी आपकी दिनचर्या, आयुष मंत्रालय की गाइडलाइन।

कोरना संकट में खुद के बचाव एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय ।

covid-19 वैश्विक महामारी से पूरे विश्व की मानवजाति पीड़ित है , ऐसे में शरीर को स्वास्थ्य बनाए रखने में उसकी प्राकृतिक रोग प्रतिरोधक क्षमता की भूमिका महत्वपूर्ण है, इस रोग से बचाव ही इसके लड़ने का उपाय है।

आयु एवं स्वास्थ्य से जुड़ा विज्ञान होने के साथ ही आयुर्वेद प्राकृतिक संसाधनों के उपयोग पर जोर देता है, रोगों से बचाव का आयुर्वदिक पक्ष मुख्यत दिनचर्या और रितुचर्या पर निर्भर करता है, आयुर्वेद शास्त्रों में वर्णित सरल उपायों से मनुष्य अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को और बेहतर कर सकता है।

संतुत दिशा निर्देश ।

1- पूरे दिन गर्म पानी पिएं।

2- प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट योगासन , प्राणायाम एवं ध्यान करें।

3- हल्दी ,जीरा , धनिया ,लहसुन आदि मसालों का प्रयोग भोजन बनाने में करें।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय ।

1- च्यवनप्राश 1 चम्मच रोज सुबह लें , मधुमेह के रोगी सुगर फ्री च्यवनप्राश लें।

2- तुलसी , दालचीनी , कालीमिर्च ,अदरक एवं मुनक्का से बनी हर्बल चाय / काढ़ा दिन में 1 या 2 बार लें, स्वादानुसार इसमें गुड और ताजा नींबू रस मिला सकते है।

3- गोल्डन मिल्क 1 गिलास को गर्म करके उसमें आधा चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर दिन में 1 या 2 बार लें ।

सामान्य आयुर्वेदिक उपाय

नास्य – सुबह और शाम तिल/ नारियल तेल या घी अपने नाक के दोनों छिद्रों में लगाएं।

केवल 1 चम्मच तिल या नारियल का तेल मुंह में लेकर उसे 2 से 3 मिनट कुल्ले कि तरह मुंह में घुमाएं उसके बाद उसे थूक दे और फिर गर्म पानी से कुल्ला करें , ऐसा दिन में 1 से 2 बार करें।

खांसी गले में खराश के लिए ।

दिन में कम से कम 1 बार पुदीने के पत्ते / आजवाइन डाल कर पानी कि भाप लें।

खांसी या खराश होने पर लौंग के चूर्ण में गुड या शहद मिलाकर दिन में कम से कम 2 या 3 बार लें।

ये उपाय सामान्य सुखी खांसी एवं गले कि खराश के लिए लाभदायक है , फायदा ना होने पर चिकित्सक से परामर्श करें।