Home > आपका शहर > राजस्थान पुलिस ने आपदा को अवसर में बदलकर 45 बदमाशों को जेल पहुंचाया!

राजस्थान पुलिस ने आपदा को अवसर में बदलकर 45 बदमाशों को जेल पहुंचाया!

उदयपुर: उदयपुर पुलिस ने प्रधानमंत्री मोदी की “आपदा को अवसर ” में बदलने की बात से प्रेरित होकर लॉक डाउन में 45 फरार बदमाशों को पकड़ कर जेल में पहुंचा दिया।

वैश्विक महामारी कोविड के काल में उदयपुर पुलिस ने अनूठी मुहिम चलाकर प्लंबर, नर्स, सर्वेयर का रूप धरकर फरार बदमाशों के घर और अन्य ठिकानों पर दबिश दी, पुलिस को यकीन था कि लॉक डाउन में ये अपराधी घर पर ही होंगे। प्रताप नगर थाना पुलिस ने 1 महीने के भीतर 45 स्थाई वारंटी एवं वांछित अपराधियों को जेल की सलाखों के पीछे भेजा।

मध्यप्रदेश और गुजरात भी गई पुलिस टीम।

थाना अधिकारी विवेक सिंह ने बताया कि पुलिस ने कई जगह पर प्लंबर बन कर , ठेकेदार बनकर और कई जगह पर तो कॉरोण सर्वेयर बन कर दबिश दी और उनको गिरफ्तार किया ये अभियान 1 जुलाई से 31 जुलाई तक चलाया गया, पुलिस टीम अजमेर,ब्यावर , बांसवाड़, भीलवाड़ा , चितौड़ सहित मध्यप्रदेश ओर गुजरात के कई जिलों में पहुंची।

2 पुलिस कर्मी भी आए कॉरोना की चपेट में।

ये सभी बदमाश पिछले 10 से 15 बरसों से फरार थे. इनके खिलाफ कार्रवाई के दौरान पूरी सतर्कता बरतते हुए भी थाने के दो पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव तक हो गए, लेकिन पुलिस टीम ने अपनी कार्रवाइयां जारी रखी. कार्रवाई के दौरान पुलिस टीम बदमाशों के घरों तक मुखबिर की सूचना पर पहुंची. वहां पुलिसकर्मी हमेशा सिविल ड्रेस में गए. कुछ बदमाश इस कोरोना काल में भी घर नहीं पहुंचे तो उनके घरवालों को फोन कर एक्सीडेंट होने सहित अन्य बहाने बनाकर उसके नंबर लिए और उन तक पहुंचे. थाने की पुलिस टीम ने एक-दूसरे के सहयोग से 1 महीने में 45 वांछित बदमाशों और स्थाई वारंटियों को पकड़ा है. इस दौरान ऐसे बदमाश भी पकड़े गए जो कोरोना संक्रमित निकले. उनसे 2 पुलिसकर्मी भी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए.